Poshan Abhiyan 2020 | पीएम मोदी का पोषण अभियान की जानकारी

Share it with your Friends

poshan abhiyan 2020 pm modi poshan abhiyan 2020 in hindi central govt launches poshan abhiyaan for malnutrition children पीएम मोदी पोषण अभियान केंद्र सरकार बाल स्वास्थ्य योजना पोषण अभियान poshan abhiyaan

Poshan Abhiyan 2020

महत्त्वपूर्ण जानकारी : केंद्र सरकार पोषण और आंगनवाड़ी केंद्र से जुडी योजनाओं पर अन्य योजनाओं की तुलना में ज्यादा खर्च करेगी। केंद्र ने आईसीडीएस योजना के लिए एक तिमाही में बजट का 20% तक खर्च करने की अनुमति दे दी है। पूरी जानकारी नीचे दी हुयी है…..

2022 तक भारत को कुपोषण मुक्त बनाने के उद्देश्य से प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने समग्र पोषण योजना (पोशन अभियान) शुरू की है। केंद्रीय सरकार के प्रमुख पीएम मोदी पोषण अभियान के तहत सभी राज्यों, जिलों और कस्बों को कवर किया जाएगा। लोग अब पीएम पोषण अभियान की गतिविधियों और विषयों की सूची ऑनलाइन poshanabhiyaan.gov.in पर देख सकते हैं। इस पीएम पोषण अभियान की टैगलाइन साही पोशन देश रोशन है। इस कार्यक्रम का उद्देश्य शिशुओं, गर्भवती महिला और स्तनपान कराने वाली माताओं को पर्याप्त पोषण प्रदान करना है।

poshan abhiyan 2020

poshan abhiyan 2020

सभी जिलों में एसएएम बच्चों की पहचान करने और उन्हें लक्षित तरीके से देखभाल और पोषण प्रदान करने के लिए पोशन माॅह की शुरूआत की गई है। पोषण अभियान भारत का प्रमुख कार्यक्रम है, जिसमें बच्चों, किशोरों, गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली माताओं के लिए पोषण संबंधी परिणामों में सुधार किया जाता है। यह लीवरेजिंग तकनीक, एक लक्षित दृष्टिकोण और अभिसरण द्वारा किया जाता है। केंद्रीय सरकार इसे जन अभियान (जन आंदोलन) में बदलने के लिए पोषण अभियान के साथ बड़ी संख्या में लोगों को जोड़ना चाहती है। पोषण  अभियान योजना 8 मार्च 2018 को 3 वर्षों के लिए 9046 करोड़ रुपये के समग्र बजट के साथ शुरू की गई थी। 31 मार्च, 2021 तक विस्तारित योजना से 10 करोड़ से अधिक लोग लाभान्वित होंगे।

अभियान का नामपीएम मोदी पोषण अभियान
लॉन्च किया गयाप्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा
लाभ कुपोषण का स्तर कम होगा
विभागमहिला और बाल विकास मंत्रालय

What is Poshan Abhiyan (पोषण अभियान क्या है)

पोषण अभियान (राष्ट्रीय पोषण मिशन) महिला और बाल विकास मंत्रालय का एक प्रमुख कार्यक्रम है। मिशन का उद्देश्य 2017-18 से शुरू होने वाले अगले तीन वर्षों के दौरान 0-6 वर्ष, किशोरियों, गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली माताओं से बच्चों की पोषण स्थिति में सुधार करना है। इस अभियान का उद्देश्य विभिन्न कार्यक्रमों यानि आंगनवाड़ी सेवाओं, प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना, किशोरियों के लिए योजना, जननी सुरक्षा योजना, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, स्वच्छ भारत मिशन, सार्वजनिक वितरण प्रणाली, महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के साथ अभिसरण प्राप्त करना है।
वर्तमान नीतियां प्रमुख रूप से गर्भवती माताओं और स्तनपान कराने वाले बच्चों पर केंद्रित हैं, लेकिन सरकार को यह भी सोचने की जरूरत है कि बढ़ते बच्चों को पोषण कैसे प्रदान किया जाए। उन्होंने कहा कि यूनिसेफ स्वच्छ भारत, मिशन इन्द्रधनुष, टीकाकरण नीतियों और पोशन अभियान जैसी पहल पर सरकार के साथ काम करना जारी रखेगा।

One Nation One Ration Card Scheme के लिए यहाँ क्लिक करें

मोदी पोषण अभियान (गतिविधियों की सूची)

पोषण अभियान में की जाने वाली सभी प्रकार की गतिविधियों की सूची निम्न प्रकार से है :-

  • पोषण रैली
  • एनीमिया शिविर
  • क्षेत्र स्तरीय महासंघ (एएलएफ) बैठकें
  • CBE – समुदाय आधारित घटनाएँ (ICDS)
  • सामुदाियक रेडियो गतिविधियां
  • सहकारी / संघ
  • साइकिल रैली
  • दिन-एनआरएलएम एसएचजी मीट
  • डेफाइट डायरिया अभियान (D2)
  • किसान क्लब की बैठक
  • हाट बाजार गतिविधियां
  • किसानों का त्यौहार
  • घर का दौरा
  • स्थानीय नेता बैठक
  • नुक्कड़ नाटक /लोक कार्यक्रम
  • पंचायत की बैठक
  • पोषण मेला
  • प्रभात फेरी
  • शौचालयों को पानी उपलब्ध कराना
  • आंगनबाड़ी केंद्रों में सुरक्षित पेयजल
  • स्कूलों में सुरक्षित पेयजल
  • स्वयं सहायता समूह की बैठकें
  • युवा समूह की बैठक
  • पोषण वॉक (कार्यशाला)

Poshan Abhiyan 2020 विषय वस्तु

पोषण अभियान की विषय वस्तु निम्नलिखित है :-

  • स्तनपान
  • किशोर एड, आहार, विवाह की आयु
  • रक्ताल्पता
  • एंटेनाटल चेकअप
  • ईसीसीई
  • सूक्ष्म पोषक तत्व
  • विकास की निगरानी
  • स्वच्छता, जल, प्रतिरक्षा
  • पोषण (कुल मिलाकर पोषण आहार)

प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना आवेदन फॉर्म के लिए यहाँ क्लिक करें

सरकार देश में कुपोषण की समस्या को दूर करने के लिए 18 दिसंबर 2017 से राष्ट्रीय पोषण मिशन के रूप में जाना जाने वाला पोषन अभियान लागू कर रही है। अभियन का उद्देश्य जीवन चक्र दृष्टिकोण के माध्यम से देश में कुपोषण को चरणबद्ध तरीके से कम करना है, समन्वित और परिणाम उन्मुख दृष्टिकोण। समग्र दृष्टिकोण सुनिश्चित करने के लिए, राज्यों / केंद्रशासित प्रदेशों के सभी जिलों को अभियान में शामिल किया गया है। लक्ष्य 2022 तक 0-6 वर्ष के बच्चों के स्टंटिंग को 38.4% से 25% तक कम करना है। पोषन अभियान के लक्ष्य 0-6 वर्ष, किशोरावस्था के बच्चों की पोषण स्थिति में सुधार लाना है। लड़कियों, गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली माताओं को तीन साल के दौरान समयबद्ध तरीके से तय लक्ष्य के साथ:

S.NoObjectiveTarget
1.Prevent and reduce Stunting in children (0- 6 years)By 6% @ 2% p.a.
2.Prevent and reduce under-nutrition (underweight prevalence) in children (0-6 years)By 6% @ 2% p.a.
3.Reduce the prevalence of anemia among young Children(6-59 months)By 9% @ 3% p.a.
4.Reduce the prevalence of anemia among Women and Adolescent Girls in the age group of 15-49 years.By 9% @ 3% p.a.
5.Reduce Low Birth Weight (LBW).By 6% @ 2% p.a.
पोषण अभियान की यूजर मैन्युअल के लिए यहाँ क्लिक करें

पोषण अभियान के बारे में नवीनतम अपडेट के लिए हमारी वेबसाइट (www.sarkariyojnaye.com) के साथ संपर्क में रहें। तत्काल अपडेट प्राप्त करने के लिए इस पृष्ठ को बुकमार्क करें (CTRL + D दबाएं)। किसी भी प्रश्न/ सहायता के लिए नीचे दिए गए बॉक्स में एक टिप्पणी छोड़ दें। आप हमारे फेसबुक पेज (www.facebook.com/sarkariyojnaye247) पर भी एक संदेश छोड़ सकते हैं या disha@sarkariyojnaye.com पर एक मेल छोड़ सकते हैं।

अगर आपको पोषण अभियान से सम्बंधित कोई भी प्रश्न पूछना हो तो आप नीचे कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है , हमारी टीम आपकी मदद करने की पूरी कोशिश करेगी। अगर आपको हमारी ये जानकारी अच्छी लगी हो तो आप इसे अपने दोस्तों को भी शेयर कर सकते है ताकि वो भी इस योजना का लाभ उठा सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *