[Registration] MP Mukhyamantri Bhavantar Bhugtan Yojana 2020

Share it with your Friends

mp mukhyamantri bhavantar bhugtan yojana 2020 मुख्यमंत्री भावान्तर भुगतान योजना ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन online registration for kharif crops check msp & bby portal in hindi मप्र भावान्तर भुगतान योजना पंजीयन लिस्ट देखे 13 खरीफ फसलों के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन mukhyamantri bhavantar yojana online registration in hindi bhavantar bhugtan yojana portal mp mpeuparjan.nic.in kharif kisan panjikaran 2020

MP Mukhyamantri Bhavantar Bhugtan Yojana 2020

मध्य प्रदेश सरकार किसानों के लिए मुख्यमंत्री भावान्तर भुगतान योजना शुरू करने जा रही है। इस योजना के तहत सरकार उन सभी किसानों को पूरी कीमत घाटे का भुगतान करेगी जो न्यूनतम समर्थन मूल्यों के नीचे कृषि उत्पादन बेचते समय नुकसान झेलते थे। सरकार द्वारा अगले कुछ दिनों में 13 खरीफ फसलों के लिए इस योजना को शुरू किया जाएगा जो राज्य के भीतर और बाहर न्यूनतम समर्थन मूल्यों के नीचे बेची जा रही है। किसान ई-उपार्जन पोर्टल, मप्र सरकार की आधिकारिक वेबसाइट पर 28 जुलाई से 31 अगस्त तक ऑनलाइन पंजीकरण कर सकते है।

mp mukhyamantri bhavantar bhugtan yojana 2020

mp mukhyamantri bhavantar bhugtan yojana 2020

इस योजना का मुख्य उद्देश्य फसल की बिक्री संकट के मामले में किसानों की आय बढ़ाने के लिए है। यदि खरीफ फसलों को बाजार में न्यूनतम समर्थन मूल्यों की तुलना में कम कीमत पर बेचा जा रहा है तो नुकसान को भरने के लिए भावान्तर भुगतान योजना के लिए आवेदन कर सकते है। पिछले वित्त वर्ष में खरीफ की फसलों का बाजार मूल्य कम पाया गया है इसलिए सरकार ने भावान्तर भुगतान योजना को फिर से शुरू करने का यह कदम उठाया है।

मध्य प्रदेश भू नक्शा ऑनलाइन खसरा खतौनी प्रिंट करने के लिए यहाँ क्लिक करें

खरीफ फसलों के लिए किसान पंजीयन

इस साल लगभग सभी खरीफ फसलों की बाजार कीमतें न्यूनतम समर्थन मूल्यों से कम है। भावान्तर भुगतान योजना में कपास, मूंग, गेंहू, उड़द, बाजरा, चावल, ज्वार, सोयाबीन, मूंगफली, तिल, रामतिल, मक्का और तूर दाल सहित 13 फसलों के लिए शुरू की गयी है। इस योजना के तहत किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य और कीमत के बीच अंतर के लिए मुआवजा मिलेगा योजना का लाभ लेने के लिए किसानों को ऑनलाइन पंजीकरण और पंजीकृत कृषि बाजारों में अपनी कृषि उपज बेचने की आवश्यकता है।

पंजीयन के लिए आवश्यक दस्तावेज

खरीफ फसलों के लिए आवेदन करने के लिए किसानों को निम्नलिखित दस्तावेजों की आवश्यकता होगी :-

  • किसान आधार नंबर एवं समग्र आईडी
  • मोबाइल नंबर
  • बैंक खाते का विवरण
  • पंजीयन के बाद एवं खरीदी के समय पावती प्रिंट

मुख्यमंत्री भावान्तर भुगतान योजना में खरीफ फसलों की सूची, समर्थन मूल्य जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

MP Mukhyamantri Bhavantar Bhugtan Yojana 2020 के लिए ऑनलाइन पंजीकरण प्रक्रिया

भावान्तर भुगतान योजना को पहली बार अक्टूबर 2019 में लगातार गिरते कृषि कीमतों को बनाये रखने के लिए एमपी सरकार द्वारा शुरू किया गया था। किसानों को वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए सरकार ने इस योजना को लॉन्च किया किया था। इस वर्ष में भी बहुत सारी फसलों की बिक्री में संकट बना हुआ है इसलिए सरकार इस योजना को फिर से शुरू करने जा रही है। ऑनलाइन बुकिंग 28 जुलाई से शुरू होगी और 31 अगस्त 2020 तक जारी रहेगी। पंजीकरण प्रक्रिया के लिए किसानों को नीचे दिए गए चरणों का पालन करना होगा :-

  • सबसे पहले आपको मध्य प्रदेश सरकार के ई-उपार्जन पोर्टल की आधिकारिक वेबसाइट http://mpeuparjan.nic.in/mpeuparjan/Home.aspx पर जाना होगा।
  • यह एक किसान अनुकूल योजना है और लगातार निगरानी, निरीक्षण और मिशन मोड कार्यांवयन आवश्यकता है। सरकार इन फसलों के निर्यात पर अपना ध्यान क्रेंद्रित किए हुए है जिससे किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य से अधिक कीमत मिले।
  • अभी मूंग का बाजार मूल्य 5000 प्रति कुंतल है और एमएसपी 6925 रूपए है। अरहर के लिए बाजार मूल्य 3900 कुंतल है और एमएसपी 5650 रूपए प्रति कुंतल है। यह योजना 2022 तक दोगुनी किसान आय की ओर एक प्रमुख कदम है।

मध्यप्रदेश मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया के लिए यहाँ क्लिक करें

MP Mukhyamantri Bhavantar Bhugtan Yojana 2020 किसान पंजीयन के लिए आवश्यक निर्देश

  • किसान अपना पंजीयन आधार नंबर एवं समग्र आईडी के आधार पर कर सकते है।
  • पंजीयन के लिए आधार अथवा समग्र आईडी का होना आवश्यक है।
  • यदि किसान के पास आधार नंबर और समग्र आईडी दोनों उपलब्ध नहीं है तो कृपया नजदीकी ग्राम पंचायत से संपर्क करें।
  • किसान अपने परिवार की समग्र आईडी से सदस्य समग्र आईडी खोज सकते है।
  • बैंक खाता क्रमांक पासबुक में से देख कर प्रविष्ट करे।
  • यदि आधार नंबर लोड नहीं हो रहा हो तो समग्र आईडी से अपना पंजीयन करे।
  • पंजीयन के पश्चात पावती प्रिंट करे तथा खरीदी के समय पावती ले जाना अनिवार्य है।
  • पंजीयन केलिए मोबाइल नंबर होना आवश्यक है।
  • ई-उपार्जन के अंतर्गत आने वाली फसलें (धान सादा, धान ग्रेड अ, ज्वार, बाजरा, जौ) एवं भावान्तर भुगतान योजना के अंतर्गत आने वाली फसलें (सोयाबीन, मक्का, तिल, मूंगफली, रामतिल, मूंग, उड़द, तूर)

समग्र आईडी खोजने के लिए निर्देश

  • यदि आपका मोबाइल नंबर पोर्टल पर रजिस्टर है तो आप अपने मोबाइल नंबर से अपनी समग्र आईडी सर्च कर सकते है।

  • अपने मोबाइल नंबर से अपनी समग्र आईडी जानने के लिए यहाँ क्लिक करें
  • परिवार के किसी सदस्य के नाम से समग्र आईडी सर्च करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

  • नाम से सर्च करते समय ऐसे सदस्य के नाम से सर्च करे जिसका नाम सरल एवं यूनिक हो।

भावान्तर भुगतान योजना कैसे काम करता है

माना मक्का का न्यूनतम समर्थन मूल्य 3000 रूपए प्रति कुंतल है और मॉडल दर 2500 रूपए है :-

  • यदि किसान ने मंडी में फसल को 2700 प्रति कुंतल में बेचते है तो सरकार किसानों के खाते में सीधे 300 रुपए प्रति कुंतल का भुगतान करेगी।
  • यदि किसान 2300 रूपए प्रति कुंतल में बेचते है तो राज्य सरकार फसलों के लिए प्रति कुंतल केवल 500 रूपए प्रदान करेगी।

योजना की अधिक जानकारी के लिए किसान कल्याण तथा कृषि विभाग मध्य प्रदेश की आधिकारिक वेबसाइट पर जाने के लिए यहाँ क्लिक करें

भावान्तर भुगतान योजना के किसान पंजीयन के लिए फॉर्म डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें

किसान कोड से पंजीयन सम्बंधित जानकारी प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें

मुख्यमंत्री भावान्तर भुगतान योजना के बारे में नवीनतम अपडेट के लिए हमारी वेबसाइट (www.sarkariyojnaye.com) के साथ संपर्क में रहें। तत्काल अपडेट प्राप्त करने के लिए इस पृष्ठ को बुकमार्क करें (CTRL + D दबाएं)। किसी भी प्रश्न/ सहायता के लिए नीचे दिए गए बॉक्स में एक टिप्पणी छोड़ दें। आप हमारे फेसबुक पेज (www.facebook.com/sarkariyojnaye247) पर भी एक संदेश छोड़ सकते हैं या disha@sarkariyojnaye.com पर एक मेल छोड़ सकते हैं।

अगर आपको मुख्यमंत्री भावान्तर भुगतान योजना से सम्बंधित कोई भी प्रश्न पूछना हो तो आप नीचे कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है , हमारी टीम आपकी मदद करने की पूरी कोशिश करेगी। अगर आपको हमारी ये जानकारी अच्छी लगी हो तो आप इसे अपने दोस्तों को भी शेयर कर सकते है ताकि वो भी इस योजना का लाभ उठा सके।