Bihar Bal Sahayata Yojana 2021 : 1500 रुपये की बाल सहायता योजना

Share it with your Friends

bihar bal sahayata yojana 2021 for COVID-19 orphans, Rs. 1500 per month till the age of 18 years in Children Assistance Scheme, orphaned kids to be brought up in child shelter home, complete details here बिहार बाल सहायता योजना

Bihar Bal Sahayata Yojana 2021

बिहार सरकार ने COVID-19 के कारण अनाथ बच्चों के लिए एक नई बाल सहायता योजना शुरू की है। इस योजना में, राज्य सरकार कोरोनावायरस अनाथों को 1500 रुपये की मासिक वित्तीय सहायता प्रदान करेगी। ऐसे सभी बच्चे चाहे वह लड़का हो या लड़की, जिसने COVID-19 के कारण अपने माता-पिता में से किसी एक को खो दिया हो, को प्रति माह 1500 रुपये की सहायता दी जाएगी।

bihar bal sahayata yojana 2021

bihar bal sahayata yojana 2021

सीएम नीतीश कुमार के नेतृत्व वाली जनता दल (यूनाइटेड) (जेडीयू) सरकार के तहत नई बाल सहायता योजना या बाल सहायता योजना शुरू की गई है। बिहार राज्य सरकार द्वारा COVID-19 अनाथ बच्चों को मासिक सहायता, मुफ्त शिक्षा प्रदान करने के लिए मुख्यमंत्री बाल सहायता योजना शुरू की गई है।

सीएम ने उल्लेख किया “वैसे बच्चे-बच्चियों जिनके माता पिता दोनो की मृत्यु हो गई, जिनमें कम से कम एक की मृत्यु कोरोना से हुई हो, उनको ‘बाल सहायता योजना’ अंतर्गत राज्य सरकार द्वारा 18 वर्ष होने तक 1500 रू0 प्रतिमाह दिया जाएगा।” उन्होंने यह भी जोड़ा कि “जिन अनाथ बच्चे-बच्चियों के अभिभावक नहीं हैं, उनकी देखरेख बालगृह में की जाएगी। ऐसे अनाथ बच्चियों का कस्तूरबा गांधी बालिका आवासीय विद्यालय में प्राथमिकता पर नामांकण कराया जाएगा”।

Also Read : Bihar Mukhyamantri Kanya Vivah Yojana

बिहार बाल सहायता योजना की मुख्य विशेषताएं

बिहार बाल सहायता योजना की महत्वपूर्ण विशेषताएं और मुख्य विशेषताएं इस प्रकार हैं: –

  • वे सभी बच्चे जिनके माता-पिता या माता-पिता दोनों में से किसी एक की मृत्यु COVID-19 के कारण हुई है, उन्हें प्रति माह 1,500 रुपये दिए जाएंगे।
  • यह राशि COVID-19 अनाथों को 18 वर्ष की आयु प्राप्त करने तक दी जाएगी।
  • बिना अभिभावक के अनाथ यानि माता-पिता/देखभाल करने वालों को बाल गृह नहीं ले जाया जाएगा।
  • कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालयों में प्राथमिकता के आधार पर कोविड अनाथ बालिकाओं का नामांकन किया जाएगा।

केंद्र सरकार के साथ-साथ हरियाणा, यूपी और दिल्ली के एनसीटी जैसे राज्यों ने भी उन बच्चों के लिए समान उपायों की घोषणा की है, जिन्होंने कोविड -19 के लिए एक माता-पिता को खो दिया था। हरियाणा और उत्तर प्रदेश ने कोरोनावायरस अनाथ बच्चों की देखभाल के लिए बाल सेवा योजना की घोषणा की।

COVID-19 महामारी के खिलाफ लड़ाई

बिहार ने COVID-19 की उग्र लहर में कमी के संकेत दिए हैं। 30 मई 2021 तक, राज्य में कोरोनावायरस से संक्रमित होने वाले लोगों और इस बीमारी से मरने वालों की संख्या में उल्लेखनीय गिरावट देखी गई।

राज्य के स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, 48 नए लोगों की मौत के कारण मरने वालों की संख्या 5,052 तक पहुंच गई, जबकि 1,491 लोगों ने पिछले दिन से सकारात्मक परीक्षण किया, जिससे यह संख्या बढ़कर 7.04 लाख हो गई। बिहार में पिछले एक सप्ताह में 600 से अधिक COVID-19 मौतें हुई हैं। कई दिनों में, मृतकों की संख्या 100 के करीब थी, और कभी-कभी यह तीन अंकों के निशान को भी तोड़ देती थी। लगभग 13 करोड़ की कुल आबादी वाले बिहार में 1.03 करोड़ से अधिक लोगों को टीका लगाया गया है।

Click Here to Bihar CM Swayam Sahayata Bhatta Yojana

सरकारी योजनाओं की जानकारी के लिए रजिस्ट्रेशन करेंयहाँ क्लिक करें
फेसबुक पेज को लाइक करें (Like on FB)यहाँ क्लिक करें
टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिये (Join Telegram Channel)यहाँ क्लिक करें
सहायता/ प्रश्न के लिए ई-मेल करें @disha@sarkariyojnaye.com

Press CTRL+D to Bookmark this Page for Updates

अगर आपको Bihar Bal Sahayata Yojana से सम्बंधित कोई भी प्रश्न पूछना हो तो आप नीचे कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है , हमारी टीम आपकी मदद करने की पूरी कोशिश करेगी। अगर आपको हमारी ये जानकारी अच्छी लगी हो तो आप इसे अपने दोस्तों को भी शेयर कर सकते है ताकि वो भी इस योजना का लाभ उठा सके।

7 comments

  • विपिन कुमार

    यदि पिता की मृत्यु covid-19 से हुई हो और माता जीवित हो तो क्या ये योजना का लाभ नाबालिक बच्चों को मिल पाएगा?
    एक से ज्यादा बच्चों को ये लाभ मिलता है या एक परिवार से एक ही बच्चे को?

  • विपिन कुमार

    यदि पिता की मृत्यु covid-19 से हुई हो और माता जीवित हो तो क्या ये योजना का लाभ नाबालिक बच्चों को मिल पाएगा?
    एक से ज्यादा बच्चों को ये लाभ मिलता है या एक परिवार से एक ही बच्चे को?

  • अमर नाथ झा

    ये उनको ही मिलता है जो अगन बड़ी के लोग होते है, मैने लास्ट टाइम भी दिया पर नही आया कुछ, बिहार में कोई काम बिना पैसा खाए नही करता है, अगर कर दे तो सरकारी कर्मचारी उसको रोक देते है।
    मैने 3 बार राशन कार्ड के लिए आवेदन दिया हर बार किसी न किसी कारण से रद कर दिया गया।

    सरकार की नजर बस सरकारी लोगो के लिए ही है, किसान या प्राइवेट शिक्षक या अधिक उम्र वालो के लिए नही है। दो महीने सरकारी शिक्षक की वेतन रोके के मना कर दो की नही देंगे तब पता चलेगा कि 24 महीने से प्राइवेट स्कूल के शिक्षक कैसे रह रहे है।
    जनता हु मेरे लिखने का कोई फायदा नही होगा, क्योंकि इसको देंखेने वाला भी कोई न कोई सरकारी आदमी होगा उनको तो वेतन मिल ही रहा है बाकी से क्या मतलब है।

  • Anonymous

    Great Article bro.
    Very Useful tarike se samjhaya hai aapne
    Lekin iske liye online apply kab se suru hoga please bataiye.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *