विवाद से विश्वास योजना 2020 Vivaad Se Vishwas Yojana Apply Online

Share it with your Friends

vivad se vishwas scheme 2020 legacy dispute resolution scheme 2019 2020 central government vivad se vishwas yojana 2020 for direct indirect tax virasat vivad samadhan yojana विवाद से विश्वास योजना सबका विश्वास-विरासत विवाद समाधान योजना मुख्य घटक विशेषताएं

सबका विश्वास-विरासत विवाद समाधान, विवाद से विश्वास योजना 2020

LATEST UPDATE : Big News !! The government has decided to extend the deadline to settle tax disputes under the Vivad se Vishwas scheme from 30 June to 31 December 2020. Government has also extended Sabka Vishwas Virasat Vivad Samadhaan Yojana upto 30 June 2020. Applicants will not have to pay any extra interest or penalty on the extension. Individuals would have had to pay 10% on the disputed amount for settlements done after 31 December 2020. This announcement comes under the coronavirus lockdown imposed by the government across 30 states and Union Territories in the country. Keep in touch with us for updates…..

Property Tax, Securities transaction Tax (STT), Commodity Transaction Tax (CTT) disputes will not cover under vivad se vishwas scheme 2020. After resolving of dispute, amount need to be deposit within 15 Days. Read full news from Image below….

Central Government has done big announcement for Tax Payers. Like Sabka Vishwas Yojana for indirect Tax in last budget, Government will start Vivad se Vishwas Yojana for Direct Tax in Year 2020. There are 4.83 Lakhs cases pending for Tax matters. In New Scheme, Dispute can be resolved by Paying tax only till 30 March 2020. There will be extra payment for dispute resolve after 30 June, 2020. read full news from Image below…

केंद्र सरकार ने कर में विवादों को हल करने के लिए सबका विश्वास-विरासत विवाद समाधान योजना शुरू की है। नीचे की इमेज से पढ़ें पूरी खबर …

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का पहला बजट पेश किया। अपने बजट भाषण में वित्त मंत्री ने समाज के हर तबके के लिए कुछ न कुछ घोषणाएं की थी। आम जन से लेकर उद्योग जगत तक सभी को बजट में कुछ न कुछ तोहफा दिया है। गरीब और माध्यम वर्ग को जहां राहत देने की कोशिश की गयी है वहीं अमीरों की जेब पर खासा असर पड़ने वाला है। वित्त मंत्री ने केंद्रीय उतपास शुल्क और सेवा कर में जीएसटी व्यवस्था से पहले लंबित मुक़दमे की शीघ्र समाप्ति के लिए नयी लिगेसी विवाद निपटारा योजना शुरू करने का प्रस्ताव दिया था। उन्होंने कहा कि जीएसटी सम्बन्धी मुकदमों में 3.75 लाख करोड़ रूपए से भी ज्यादा पैसा फँसा हुआ है।

व्यापारी और कारोबारी इस योजना का लाभ उठाकर अपने मुकदमे को खत्म कर सकते है। इस योजना के उद्देश्य केंद्रीय उत्पाद शुल्क और सेवा कर में पुराने विवाह है, वो सभी लोग जिन्हे दोषी ठहराया गया है वो भी इस योजना का लाभ उठा सकते है। इसके लिए दोषी करार दिए गए शख्स को निपटान आयोग के समक्ष एक आवेदन दायर करना होगा।

सबका विश्वास-विरासत विवाद समाधान योजना

सबका विश्वास-विरासत विवाद समाधान योजना

सेवा कर और उत्पाद शुल्क माफ़ी योजना के तहत करदाता को दी जाने वाली राहत पर अधिकृत समिति 60 दिन में फैसला करेगी। यह योजना 1 सितम्बर 2019 से चार महीने के लिए परिचालन में आएगी। घोषणा के 60 दिन के भीतर समिति उनके मामले में लिए गए फैसले इलेक्ट्रॉनिक तरीके से सूचना देगी। इस स्कीम के अंतर्गत स्वैछिक तौर पर घोषित मामलों को छोड़कर अन्य बकाया टैक्स के मामलों में बकाये की राशि को देखते हुए 40 प्रतिशत से लेकर 70 प्रतिशत तक की कर राहत शामिल होगी। साथ ही यह स्कीम ब्याज और जुर्माने के भुगतान से भी राहत देगा।

योजना का नामविवाद से विश्वास योजना तथा सबका विश्वास-विरासत विवाद समाधान योजना
विभागराजस्व विभाग, आयकर विभाग (प्रत्यक्ष कर)
लाभार्थीवे लोग जिन्होंने सेटलमेंट कमीशन के समक्ष आवेदन कर रखा है
योजना की स्थितिउपलब्ध है
लॉन्च की तारीख01 February 2020
भुगतान की तारीख30 June 2020

व्यापारी पेंशन मानधन योजना आवेदन फॉर्म, पात्रता के लिए यहां क्लिक करें

सबका विश्वास-विरासत विवाद समाधान योजना की विशेषताएं

  • सबका विश्वास विरासत विवाद समाधान योजना 2019 विरासत सम्बन्धी मामलों के निपटान के लिए शुरू की गयी है।
  • इस योजना में केंद्रीय उत्पाद, सेवा कर और उपकरों के पिछले विवादों को कवर किया गया है जो जीएसटी में शामिल हो गए है।
  • जो भी इसका लाभ लेना चाहते है वो सभी इसके पात्र है। मामलों एक निपटान के लिए देय कर 40 से 70 फीसदी के बीच है।

योजना के घटक

संकल्प और एमनेस्टी इस योजना के दो मुख्य घटक है।

विवाद समाधान घटक :- इस घटक के तहत केंद्रीय उत्पाद शुल्क और सेवा कर की विरासत मामलों को समाप्त किया जायेगा। ऐसे मामले जो जीएसटी के तहत है और विभिन्न मंचों पर मुकदमेबाजी में लंबित है, उन्हें भांग कर दिया जायेगा।

एमनेस्टी घटक :- योजना के तहत यह घटक करदाताओं को बकाया कर का भुगतान करने की अनुमति देगा। वे कानून के तहत किसी अन्य परिणाम से मुक्त होंगे। यह सभी प्रकार के मामलों के साथ साथ ब्याज, जुर्माना, जुर्माना की पूर्ण छूट के लिए कर देय राशि में पर्याप्त राहत प्रदान करता है। यह अभियोजन पक्ष से पूर्ण क्षमा भी प्रदान करेगा।

सबका विश्वास-विरासत विवाद समाधान योजना की अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

अगर आपको सबका विश्वास-विरासत विवाद समाधान योजना से सम्बंधित कोई भी प्रश्न पूछना हो तो आप नीचे कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है , हमारी टीम आपकी मदद करने की पूरी कोशिश करेगी। अगर आपको हमारी ये जानकारी अच्छी लगी हो तो आप इसे अपने दोस्तों को भी शेयर कर सकते है ताकि वो भी इस योजना का लाभ उठा सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *