One Nation One Grid Scheme 2019 वन नेशन वन ग्रिड सस्ती बिजली योजना

Share with your Friends

one nation one grid scheme 2019 वन नेशन वन ग्रिड सस्ती बिजली गैस ग्रिड नेशनल ग्रिड राष्ट्रीय ग्रिड जल ग्रिड power sector 24*7 bijli saubhagya yojana सौभाग्य योजना

वन नेशन वन ग्रिड (One Nation One Grid Scheme)

Latest News :- देश में वन नेशन वन ग्रिड परियोजना के जरिये आम लोगों बिजली दी जाएगी। वहीं इसकी क़्वालिटी भी अच्छी होगी।इस योजना की पूरी जानकारी नीचे दी हुयी है …

वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण जी ने अपने बजट को पेश करते वक़्त वन नेशन वन ग्रिड पर जोर दिया। उन्होंने तेजी से विकास और परियोजनाओं को पूरा करने के लिए सार्वजनिक निजी भागीदारी का इस्तेमाल करने का प्रस्ताव रखा। साथ ही राष्ट्रीय राजमार्ग ग्रिड, गैस ग्रिड, जल ग्रिड राजमार्गों और क्षेत्रीय हवाई अड्डों के विकास की बात कही। इस योजना के तहत सरकार बिजली क्षेत्र में और अधिक सुधार करेगी और सभी राज्यों को किफायती दरों पर बिजली मिलेगी। इस योजना के तहत सरकार हर घर को 24 घंटे एकसमान दर पर बिजली मुहैया कराई जाएगी। वित्त मंत्री ने कहा कि हमारा लक्ष्य रिफार्म, परफॉर्म और ट्रांसफॉर्म का है। देश के अंदर जल मार्ग के साथ ही वन नेशन वन ग्रिड के लिए हम आगे बढ़ रहे है जिसका ब्लू प्रिंट तैयार किया जा रहा है।

one nation one grid scheme 2019
one nation one grid scheme 2019

ग्रिड का मतलब ये है कि बिजली देश भर में कहीं भी बने लेकिन उसकी सप्लाई पहले गरीब में आती है और फिर ग्रिड से राज्यों और जिलों को उनकी मांग के अनुसार सप्लाई दे दी जाती है। नेशनल ग्रिड के जरिये सभी नदियों को आपस में जोड़ा जायेगा। फिर नदियों के पानी को ग्रिड तक लाया जायेगा और उसके बाद राज्य और जिलों को उसकी सप्लाई दे दी जाएगी। इससे पानी की बर्बादी रुकेगी और जमीनी पानी के दोहन पर भी लगाम लगेगी।

बाढ़ और सूखे पर लगाम

पानी बचाओ योजना पर काम करने वाले इंजीनियर रिटायर्ड निसार खान ने कहा कि इसका एक सबसे बड़ा फायदा ये मिलेगा कि देश में जहां बाढ़ की समस्या है उस पर नियंत्रण लग जायेगाऔर जहां पानी की कमी रहती है वहां पानी पहुँचने लगेगा। इसी तरह से सरकार ने गैस ग्रिड बनाने की भी बात कही है , गैस के लिए भी नेशनल ग्रिड बनाया जायेगा।

वहीं कुछ लोगों का मानना है कि इस परियोजना में बहुत खतरा है। क्योकि हर नदी के पानी का नेचर अलग होता है। अलग अलग नदी के पानी को एक जगह इकठ्ठा करना स्वास्थ्य की दृष्टि से अच्छा नहीं होता। वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण जी ने अपने भाषण की शुरुआत एक शेर के साथ की। निर्मला जी ने कहा कि यकीन हो तो कोई रास्ता निकलता है, हवा की ओट भी लेकर चराग जलता है। इस दौरान उन्होंने संस्कृत में एक श्लोक भी सुनाया।

अगर आपको वन नेशन वन ग्रिड योजना से सम्बंधित कोई भी प्रश्न पूछना हो तो आप नीचे कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है , हमारी टीम आपकी मदद करने की पूरी कोशिश करेगी। अगर आपको हमारी ये जानकारी अच्छी लगी हो तो आप इसे अपने दोस्तों को भी शेयर कर सकते है ताकि वो भी इस योजना का लाभ उठा सके।

Leave a comment